SIMONE TATA SUCESS STORY

SIMONE TATA

Simone tata’s sucess story : इस महिलाने टूरिएस्ट बनके भारत आकर 70000 करोड़ का बिजनेस संभाला……

Simone tata की सफलता की कहानी: Simone naval tata एक स्विस मूल की भारतीय व्यवसायी महिला, जो टाटा परिवार की एक महान और नेतृत्व शाली व्यक्ति हैं। Simone tata का जन्म 1930 में स्विट्जरलैंड के जिनेवा शहर में हुआ था और उन्होंने जिनेवा विश्वविद्यालय से स्नातक की उपाधि प्राप्त की थी। 1953 में एक पर्यटक के रूप में भारत का दौरा किया, यहां से उनकी जीवनयात्रा पूरी बदल गई। भारत आकर उनकी मुलाकात नवल एच. टाटा से हुई। 1955 में उनकी शादी हो गई और सिमोन स्थायी रूप से मुंबई में बस गईं। Simone tata और naval tata  के माता-पिता हैं। सिमोन टाटा समूह के अध्यक्ष रतन टाटा की सौतेली माँ हैं, जो नवल की पिछली शादी से हैं।

ऐसे ही जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे.

जानिए सिमोन टाटा की सफलता की कहानी का राज…..

Simone tata की बिजनेस की कहानी:

Simone tata का बिजनेस क्षेत्र में लेग टब पड़ा, जब वह 1962 में लैक्मे बोर्ड में शामिल हुए, यह टाटा ऑयल मिल्स की एक छोटी सहायक कंपनी थी | 1961 में प्रबंध निदेशक के रूप में 1982 में इसके अध्यक्ष बने, और गैर-कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में कार्य किया। ट्रेंट लिमिटेड 30 अक्टूबर 2006 तक।

वेस्टसाइड और ट्रेंट की कहानी:

उन्हें 1989 में टाटा इंडस्ट्रीज के बोर्ड में नियुक्त किया गया था। खुदरा क्षेत्र में वृद्धि को देखते हुए| 1996 में, टाटा ने लैक्मे को हिंदुस्तान लीवर लिमिटेड (HLL) को बेच दिया |  उसका पैसा अपने शौक के पीछे नहीं बल्कि बिक्री से मिले पैसे से ट्रेंट बनाया गया। लैक्मे के सभी शेयरधारकों को ट्रेंट में बराबर शेयर दिए गए। वेस्टसाइड ब्रांड और स्टोर ट्रेंट के हैं। और आज वेस्टसाइड और जूडियो जेसी काई ब्रांड खादी करदी है।

Prince Ranpariya

View all posts

Add comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *